काशी को दी रुद्राक्ष सेंटर की सौगात, पीएम मोदी ने जापान को बताया सबसे विश्वसनीय दोस्त..

बनारस : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश के वाराणसी का दौरा किया |  इस दौरान उन्होंने IIT-BHU मैदान में 1,500 करोड़ रुपये से अधिक की कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया |

सभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज काशी में सैकड़ों करोड़ की अनेक विकास योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास हुआ है और अब वाराणसी इंटरनेशनल कोऑपरेशन एंड कन्वेंशन सेंटर ‘रुद्राक्ष’ का उद्घाटन हुआ है | कोरोना काल में जब दुनिया ठहर सी गई, तब काशी संयमित तो हुई, अनुशासित भी हुई, लेकिन सृजन और विकास की धारा अविरल बहती रही | काशी के विकास के ये आयाम, ये ‘इंटरनेशनल को-ऑपरेशन एंड कन्वेंशन सेंटर- रुद्राक्ष’ आज इसी रचनात्मकता का, इसी गतिशीलता का परिणाम है |

पीएम मोदी ने कहा कि मुझे याद है, शिंजो आबे जी जब प्रधानमंत्री के तौर पर काशी आए थे, तो रुद्राक्ष के आइडिया पर उनसे मेरी चर्चा हुई थी | जापान आज भारत के सबसे विश्वसनीय दोस्तों में से एक है | उन्होंने कहा कि भारत और जापान की सोच है कि हमारा विकास हमारे उल्लास के साथ जुड़ा होना चाहिए | ये विकास सर्वमुखी होना चाहिए, सबके लिए होना चाहिए, और सबको जोड़ने वाला होना चाहिए |

पीएम ने कहा, बनारस के तो रोम रोम से गीत संगीत और कला झरती है. यहां गंगा के घाटों पर कितनी ही कलाएं विकसित हुई हैं, ज्ञान शिखर तक पहुंचा है और मानवता से जुड़े कितने गंभीर चिंतन हुये हैं | इसीलिए, बनारस गीत-संगीत का, धर्म-अध्यात्म का और ज्ञान-विज्ञान का एक बहुत बड़ा ग्लोबल सेंटर बन सकता है | उन्होंने कहा कि पिछले 6-7 सालों में बनारस के हैंडीक्राफ्ट और शिल्प को मजबूत करने की दिशा में काफी काम हुआ है | इससे बनारसी सिल्क और बनारसी शिल्प को फिर से नई पहचान मिल रही है |

परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास में मुख्य रूप से गोदौलिया में बहु-स्तरीय पार्किंग, पर्यटन विकास के लिए रो-रो वेसल और वाराणसी-गाजीपुर राजमार्ग पर तीन-लेन फ्लाईओवर पुल शामिल हैं |

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी-गाजीपुर राजमार्ग पर कई सार्वजनिक परियोजनाओं और तीन लेन के फ्लाईओवर पुल का उद्घाटन किया |  यहां उन्होंने 744 करोड़ रुपये की परियोजनाओं और तकरीबन 839 करोड़ रुपये की कई परियोजनाओं और सार्वजनिक कार्यों का शिलान्यास किया | सबसे बड़ा तोहफा रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर है, जो काशी को जापान के क्योटो की तर्ज पर विकसित करने में बेहद अहम साबित होने वाला है | वाराणसी में बना रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर, भारत और जापान की मजबूत दोस्ती का प्रमाण है. इस अवसर पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ यूपी कैबिनेट के कई मंत्री भी मौजूद थे | उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वाराणसी में हवाई अड्डे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत किया |

पीएम मोदी द्वारा बनारस में कहीं गई मुख्य बाते –

यूपीरकार का कोविड-19 की दूसरी लहर से निपटने में अभूतपूर्व कार्य |

राज्य सरकार ने दूसरी लहर के दौरान जिस तरह से वायरस को फैलने से रोका है वह अभूतपूर्व है |

आज यूपी एक ऐसा राज्य है जो पूरे देश में सबसे ज्यादा टेस्टिंग करता है |

यह एक ऐसा राज्य है जो अधिकतम संख्या में टीकाकरण करता है |

आज यूपी में सरकार भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद पर नहीं विकास से चलती है |

कुछ साल पहले तक यूपी में व्यापार करना मुश्किल समझा जाता था। लेकिन अब यह मेक इन इंडिया के लिए पसंदीदा जगह बनता जा रहा है |

कभी नियंत्रण से बाहर हो चुके माफिया राज और आतंकवाद अब कानून की गिरफ्त में हैं।

यूपी के साथ काशी ने भी कोरोना वायरस के खिलाफ बहादुरी से लड़ाई लड़ी |

काशी पूर्वांचल का बड़ा मेडिकल हब बनता जा रहा है। आज काशी में भी उन बीमारियों के लिए सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। जिनके इलाज के लिए पहले दिल्ली और मुंबई जाना पड़ता था |

काशी ने दिखा दिया है कि मुश्किल समय में भी ये ना रुकती है ना थकती है। पिछले कुछ महीने पूरी मानव जाति के लिए बहुत कठिन रहे हैं। लेकिन काशी समेत पूरे यूपी ने पूरी ताकत से कोरोना वायरस के बदलते और खतरनाक रूप का सामना किया |

युवाओं का कौशल विकास राष्ट्रीय आवश्यकता |

नई पीढ़ी के युवाओं का कौशल विकास एक राष्ट्रीय आवश्यकता है और आत्मानिर्भर भारत के लिए एक प्रमुख आधार है |

यह दूसरी बार है जब हम इस दिन को कोविड-19 महामारी के बीच मना रहे हैं। इस वैश्विक महामारी की चुनौतियों ने विश्व युवा कौशल दिवस के महत्व को बढ़ा दिया है |

मुझे खुशी है कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के माध्यम से अब तक 1.25 करोड़ से अधिक युवाओं को प्रशिक्षण दिया गया है ||

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!

We are a non-profit organization, please Support us to keep our journalism pressure free. With your financial support, we can work more effectively and independently.
₹20
₹200
₹2400
Keshav Jha
नमस्कार, मै केशव झा, स्वतंत्र पत्रकार और लेखक आपसे गुजारिश करता हु कि हमें पढ़ें, शेयर करें, इसके अलावा इसे और बेहतर करने के लिए, सुझाव दें। इस खबर, लेख में विचार मेरे अपने है। मेरा उदेश्य आप तक सच पहुंचाना है। द हरीशचंद्र पर मेरी सभी सेवाएँ निशुल्क है। धन्यवाद।